top of page

कर्म

राह अनजानी हो ग़र तो क्या

मुकाम का ख्वाब जिंदा रहना चाहिए

पत्थरों की सेक मिले जितनी भी पैरों को

आँखों में कर गुजरने की चमक होनी चाहिए।



फेहरिस्त कठिनाइयों की लंबी ग़र तो क्या

इक और कोशिश की दिल्लगी रहनी चाहिए

गिर पड़े फ़िर इक बार घुटनों पर तो क्या

हों खड़े उन्हीं पर ऐसे हौसले की धमक होनी चाहिए।


कभी लगे कोई साथ नहीं ग़र तो क्या

रास्ते को सहेजते चट्टान सा अडिग होना चाहिए

धूमिल हो भी जाए बादलों से लेकिन

फ़िर चमकते आसमान सा होना चाहिए।


और अविश्वास की आंधियां हो ग़र तो क्या

आत्मविश्वास की बूँद बन आँधियों पर बरस जाना चाहिए


टिमटिमाते तारों सा ना भी बने तो फिक्र नहीं

क्योंकि तुम्हारा उद्देश्य तो सूरज होना चाहिए।


और थक गए ग़र तो क्या

स्वाती बूंद को भी तो मोती बनने में वर्षों का तप चाहिए

बस स्मरण रहे सीप हो तुम

और कर्म तुम्हारा मोती सा होना चाहिए।


9 views0 comments

Comments


Post: Blog2 Post
bottom of page