top of page

गणतंत्र दिवस


 

मां और मातृभूमि


तेरी रज माथे का चंदन, तेरी माटी जैसे कंचन ,

मातृभूमि तेरा अभिनंदन, कोटिश वंदन कोटिश वंदन I

जन्मदायिनी मां को वंदन. कुक्षि और गोदी को वंदन ,

जिसका दूध आज भी तन में, माता तुझको पुनि पुनि वंदन II


रक्त शिराओं में बन बहता, दुग्ध तेरे को कोटिश वंदन ,

स्वर्ग तेरे चरणों में जननी, तेरे चरणों का अभिनंदन I

सारे जग से तू पावन है, भारत मां तेरा अभिनंदन ,

तेरी रज मे त्रेता युग में, खेले यहां कभी रघुनंदन II


द्वापर युग में भारतमाता, खेल खिलाए देवकीनंदन ,

मातृभूमि तेरा अभिनंदन, कोटिश वंदन कोटिश वंदन I

शीश हिमालय ताज बिराजे, सागर तेरे पांव पखारे ,

सारे जग में जो फहरे हैं, धर्म ध्वजा को है अभिनंदन II


वीरों की तू भूमि रही है, अमर कथाओं का अभिनंदन ;

रण में पींठ कभी न दिखाएं, ऐसे वीरों का अभिनंदन ,

मातृभूमि को पुनि पुनि वंदन, कोटिश वंदन कोटिश वंदन I


वंदे मातरम।


 

Maa aur Maatrbhoomi


Teri raj maathe ka chandan, teri maati jaise kanchan,

Maatrbhoomi tera abhinandan, kotish vandan kotish vandan.

Janmdaayni maa ko vandan, khucshi aur godi ko vandan,

Jiska dhoodh aaj bhi tan me, maata tujko puni-puni vandan.


Rakt shiraon me ban bahata, dugdh tere ko kotish vandan,

Svarg tere charanon mein jannee, tere charanon ka abhinandan.

Saare jag se tu paavan hai, bhaarat maan tera abhinandan,

Tere raj me treta yug mein, khele yahaan kabhee raghunandan.


Dvaapar yug mein bhaaratmaata, khel khilaiye devakeenandan,

Maatrbhoomi tera abhinandan, kotish vandan kotish vandan.

Sheesh Himaalaya taaj biraaje, saagar tere paanv pakhaare,

Saare jag mein jo phahare hain, dharm dhvaja ko hai abhinandan.


Veeron kee tu bhoomi rahi hai, amar kathaon ka abhinandan;

Ran mein peenth kabhi na dikhaaiye, aise veeron ka abhinandan,

Maatrbhoomi ko puni puni vandan, kotish vandan kotish vandan.


Vande Maataram


 

55 views0 comments

留言


Post: Blog2 Post
bottom of page