top of page

कैसा तेरा जिहाद है

कश्मीर घाटी में सेवारत एक भारतीय सेना का सिपाही इस बात से हैरान है कि कैसे कश्मीर के युवाओं को धर्म के नाम पर उग्रवाद में धकेल दिया जाता है। क्या जिहाद के लिए मानव जीवन का कोई मूल्य नहीं ? सिपाही उग्रवाद के कारण पीड़ित, मासूमों को देखता है। यह युवाओं को झकझोरने का प्रयास है क्योंकि कोई भी धर्म मानवता की हत्या का उपदेश नहीं देता है।


An Indian Army soldier serving in Kashmir valley is perplexed on how youth of Kashmir is pushed into militancy in name of religion. The soldier dares to question if Jihaad has no value of human life. He witness innocents suffering because of militancy. He attempts to shake the brainwashed youth to see beyond cooked up stories of Jihaad because no religion preaches killing of humanity.

 
People of Kashmir
Representative Purpose Only

है ये जंग किस वास्ते

है क्यूं तू लड रहा

ये कौन सी जिहाद है

जो ले हथियार तू चल रहा


है ये जंग किस वास्ते

है क्यूं तू लड रहा

चंद सिक्कों की खातिर

कयूं जान लुटाने को तडप रहा


है ये जंग किस वास्ते

है क्यूं तू लड रहा

खून in सड़कों पे

लाल ही तो बैह रहा


है ये जंग किस वास्ते

है क्यूं तू लड रहा

अंधी इस आग मे

घर मेरा या तेरा

है तो बस जल ही रहा


है ये जंग किस वास्ते

है कयूं तू लड रहा

मासुम कहता है तु खुद को

तो कया कसुर उसका भी था

तू था राह भटका

वो तो बस किनारे खडा ही था

84 views0 comments

Recent Posts

See All

Comments


Post: Blog2 Post
bottom of page